Breaking News

मोंठ झांसी- नवीन मंडी स्थल मोंठ में तहसीलदार अशोक चौधरी ने मंडी में एक दुकान पर छापा मारा जिसमें 3


मोंठ ( झांसी )-किसान की शिकायत पर उपजिलाधिकारी मोंठ अशोक कुमार चौधरी ने मंडी की एक दुकान पर मारा छापा जिस पर उन्होंने बताया गया है कि तहसील मोठ क्षेत्र के थाना मोठ के अंतर्गत ग्राम रेव निवासी हरपाल सिंह पुत्र खुमान सिंह ने उपजिलाधिकारी को प्रार्थना पत्र देते हुए बताया था कि 2 माह पहले उसने 56 हजार रुपए की धान मंडी के फार्म मेंबर्स कन्हैया लाल यादव पर बेची थी जिसमें से उसके 6 हजार रुपये शेष रह गये है जब वह अपने रुपये मांगने के लिए गया तो वह आढ़तिया दबंगई के साथ धमका रहा है और रुपए नहीं दे रहा है एवं धमकी देते हुए कह रहा है कि जिससे शिकायत करनी है कर दो रुपए नहीं दिए जाएंगे। वही पीड़ित की पत्नी और नातिन एक हफ्ते से घर पर बीमार पड़ी है उनके पास एक रुपये भी इलाज कराने के लिए नहीं है यदि पीड़ित किसान का धान का रुपये नही मिला तो घर पर पड़ी बीमार नातिन एवं उनकी पत्नी के साथ कोई बड़ा हादसा घट सकता है। पीड़ित किसान की शिकायत पर उपजिलाधिकारी ने तुरन्त अपने साथ किसान को लेकर मोठ मंडी में जा धमके और वहां पर कार्य कर रह दुकान के मुनीम व फार्म पर कार्य कर रहे तीन लोगों को उन्होंने तुरंत अपनी हिरासत में लेकर पुलिस के सुपुर्द कर दिया। वहीं मंडी सचिव ओंकार नाथ त्रिपाठी और आढ़तिया को सख्त निर्देश दिए कि जल्द से जल्द किसान के रुपये दे दिए जाएं वरना उसके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी जिसे देखने के लिए सैकड़ों किसान एकत्रित हो गये और वही उप जिलाधिकारी से लगभग आधा दर्जन किसानों ने रुपये ना देने एवं बेची गई धान के रुपयों पर डेढ़ पर्सेंट रुपये काटने की शिकायत की जिसमें किसानों ने पल्लेदारों पर भी आरोप लगाया कि लगभग 10 किलो धान नहीं झाड़ी जाती है जो फड़ में ही बर्बाद हो जाती है और धान को तुलाई के बाद पल्लेदार झाड़ कर अपने घर ले जाते हैं जिस पर आढ़तिया मौन बने रहते हैं जबकि किसान पल्लेदारों को तुलाई देने के बावजूद भी नुकसान उठाना पड़ रहा है उप जिलाधिकारी ने तुरंत मंडी सचिव को निर्देश दिए कि किसानों की धान का एक भी दाना बरबाद नहीं होना चाहिए उन्हें पाई पाई का रुपये तुरंत दिलाया जाए जिसमें आपको बता दें कि कई वर्षों से मोठ मंडी में कैंटीन भी बंद पड़ी हुई है वहीं पानी की मंडी में टंकियां बनाई गई थी वह कई वर्षों से टूटी पड़ी है जिस कारण किसानों को नाश्ते और खान पीने के लिए लगभग 2 किलोमीटर दूर बाजार जाना पड़ता है किसानों ने जल्द से जल्द मंडी परिसर में बनी कैंटीन को चालू कराने की भी मांग की। रिपोर्टर दिलीप कुमार



Leave a Comment

Previous Comments

Loading.....

No Previous Comments found.