Breaking News

रायगढ़ :- क्या यही है नेताओ की असली रूप, ये कैसी राजनीति


रायगढ़ -- छत्तीसगढ़ 2018 चुनावी संग्राम। छत्तीसगढ़ निर्वाचन आयोग ने विधानसभा चुनाव की तारीख 20 नवंबर 2018 कि घोषणा जैसे ही कि राजनीतिक सियासी दलों में पार्टी प्रत्याशी को लेकर कई नाम सामने आते दिखे। किन्तु पार्टी ने सभी चेहरो को पैनी नजर से परख व दमदार प्रत्याशी को 2018 के विधानसभा चुनाव महासंग्राम में प्रबल दावेदारी के रूप में उतारा। जिसे लेकर राष्ट्रीय पार्टियों में काफी नोक झोक व मान मनोबल की स्थिति भी बनी वही छने हुये प्रत्याशी अब अपनी अपनी प्रचार प्रसार सारे ताकत झोंक दिए हैं, चुनावी प्रचार को देखने से व ग्रामीणों के बीच जाकर प्रत्याशीयो की लोक लुभावनी बाते क्या जनता को प्रतियशयो की ओरआकर्षित कर सकती हैं। या फर इन 5 साल के कार्य काल मे पूरे भ्रष्टाचार , बलात्कार, किसानों कि आत्महत्या , शिक्षा, स्वास्थ, बिजली, सड़क, राशन जैसे विकराल शूरशा जैसे मुँह फाडे इन मुद्दों पर राजनीतिक पार्टियाअपने कार्यकाल के 5 साल में कुछ की और इन समस्याओं से ग्रामीणों को निजात दिलाई। अगर दिलाई होती तो दूसरे चरण अर्थात जनता के चरणों मे जो नेता 5 साल जनता को अपने चरणों के नीचे दबाकर रखती है वह आज हर घर जाकर जनता के चरणों मे नशमस्तक ना होती। नेता के 5 साल के कार्यकाल बोलता। @@@रामकृष्ण पाठक@@@



Leave a Comment

Previous Comments

Loading.....

No Previous Comments found.