Breaking News

दुनिया का सबसे उम्रदराज़ इंसान, उम्र 253.... 24 बीवियों से थे 200 से भी ज्यादा बच्चे....


दुनियाभर में कई ऐसे लोग है जो कई सालों तक जिन्दा रहते हैं. जापान के केन तनाका की मौत भी तीन दिन पहले ही हुई है. आधिकारिक तौर पर केन तनाका 9 मार्च 2019 को 116 साल 66 दिन तक जीवित रहे थे. लेकिन हम आपको आज जिस आदमी के बारे में बता रहे हैं वह 100-200 नहीं बल्कि पूरे 256 साल की उम्र तक जीवित रहा.

जी हां... इस व्यक्ति का नाम है ली चिंग युए जिनके बारे में इतिहासकारों का कहना है कि ली चिंग का जन्म 3 मई 1677 को चीन के कीजियांग जिले में हुआ था. जबकि कई अन्य लोगों का यह दावा है कि उनका जन्म साल 1736 में हुआ था.

दुनिया का सबसे ज्यादा जिंदा रहने वाला इंसान

ली चिंग युए की मृत्यु 6 मई 1933 को हुई थी. साल 1928 में एक संवाददाता ने ली चिंग युए ले बारे में लिखा था कि, 'ली के पड़ोस में रहने वाले कई बुजुर्गों का कहना था कि जब उनके दादा लोग बच्चे थे, तो वो ली चिंग को जानते थे, वो उस समय भी एक अधेड़ उम्र के शख्स थे.' इतना ही नहीं चीन की चेंगडू यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर वू चुंग-चीएह ने तो साल 1827 में ली चिंग युए को उनकी 150वीं वर्षगांठ और साल 1877 में उनकी 200वीं वर्षगांठ के मौके पर शुभकामनाएं दी थीं. ली चिंग युए के बारे में ऐसा कहा जाता है कि वह सबसे अधिक उम्र तक जीवित रहने वाले व्यक्ति है.

बता दे ली चिंग महज 10 साल की उम्र से ही हर्बल मेडिसिन का बिजनेस करने लगे थे. जी हां... ना सिर्फ हर्बल बल्कि इसके साथ-साथ मार्शल आर्ट्स में भी उन्होंने महारथ हासिल थी. ली ने 71 साल की उम्र में मार्शल आर्ट्स ट्रेनर के तौर पर चीन की सेना में शामिल हुए थे.

256 साल तक जिन्दा रहा था यह इंसान, 24 शादियां कर पैदा किए थे 200 से ज्यादा बच्चे

ऐसा कहा जाता है कि ली चिंग ने जीवनकाल में कुल 24 शादियां की थीं, जिनसे उनके 200 से अधिक बच्चे थे. ली कई तरह की जड़ी-बूटियों और इसके साथ-साथ चावल से बनी शराब को भोजन के रूप में लेते थे. उनकी लम्बी उम्र का यह राज था कि वह गहरी और पर्याप्त नींद लेते थे और साथ ही वह कबूतर की तरह बिना आलस के चलते थे, कछुए की तरह आराम से बैठते थे और अपने दिल को हमेशा शांत रखते थे.

इतना ही नहीं उनकी दिनचर्या मेंव्यायाम और डाइट का बहुत बड़ा हाथ था. वो मन और तन की शांति को लंबी उम्र तक जीने का सबसे बड़ा कारण मानते थे.



Leave a Comment

Previous Comments

Loading.....

No Previous Comments found.

Related News