Breaking News

यमन में विद्रोहियों और सेना के बीच हिंसा, 150 से ज्यादा की मौत


यमन में सऊदी अरब समर्थित लड़ाकों और ईरान से गठबंधन वाले हौथी विद्रोहियों के बीच सप्ताह के अंत में हुई हिंसा के दौरान 150 से ज्यादा की मौत हो गई है। यमनी अधिकारियों के अनुसार, देश के सबसे अहम बंदरगाह वाले शहर होदिएदा पर नियंत्रण बनाने के प्रयास में हुई लड़ाई में मरने वालों में दोनों ही तरफ के लोग शामिल हैं। 
उधर, सऊदी अरब समर्थित सैन्य गठबंधन का दावा है कि वे शहर के बंदरगाह पर अपना कब्जा बनाने से महज 4 किलोमीटर दूर रह गए हैं। सैन्य गठबंधन 3 साल से चल रही लड़ाई में पहली बार इस बंदरगाह के इतना करीब पहुंच पाया है। 

बता दें कि लाल सागर के किनारे बसे होदिएदा शहर को यमन की लाइफलाइन कहा जाता है, जहां के बंदरगाह पर ही देश का 90 फीसदी से ज्यादा आयात निर्भर है। यमन में 2015 से अशांति चल रही है, जब हौथी विद्रोहियों ने देश के उत्तरी क्षेत्र को अपने कब्जे में लेकर चुनी हुई सरकार को निष्कासित कर दिया था। 

Image result for यमन में विद्रोहियों और सेना के बीच हिंसा, 150 से ज्यादा की मौत

सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात के नेतृत्व में सुन्नी मुस्लिम देशों के गठबंधन ने तब यमन में सैन्य हस्तक्षेप करते हुए सरकार को समर्थन दिया था। तब से चल रहे संघर्ष में करीब 10 हजार से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं और संयुक्त राष्ट्र के अनुसार करीब 1.4 करोड़ यमन नागरिकों में से आधे से अधिक मानव निर्मित भुखमरी का शिकार होकर मौत के कगार पर हैं। इस संघर्ष के जारी रहने को रियाद और तेहरान बीच तनातनी का नतीजा माना जा रहा है।

हॉलीवुड अभिनेत्री एंजेलिना जॉली ने की आलोचना

संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी एजेंसी यूएनएचसीआर की विशेष राजदूत व हॉलीवुड की स्टार अभिनेत्री एंजेलिना जॉली रविवार को यमन की स्थिति पर चुप रहने के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय की आलोचना की और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद से संघर्ष के खात्मे के लिए हस्तक्षेप करने की अपील की। उन्होंने कहा, हम देख रहे हैं कि यमन में हालात भयानक बिंदु पर पहुंच चुके हैं। यमन अब मानव निर्मित भुखमरी के कगार पर हैं और हैजा महामारी के पिछले कई दशक में विश्व में सबसे खतरनाक स्तर का सामना कर रहा है।

 



Leave a Comment

Previous Comments

Loading.....

No Previous Comments found.