Breaking News

हैदरगढ़ सरकार द्वारा गरीबो को दी जाने वाली जरूरी सुविधाओं में कर्मचारी कर रहे है भ्रष्टाचार


बाराबंकी: हैदरगढ़ सरकार द्वारा गरीबो को दी जाने वाली जरूरी सुविधाओं में स्वास्थ सेवाओं को उन्हीं के कर्मचारी भ्रष्टाचार और मिलीभगत के जरिए मरीजों की जान लेने और मोटी कमाई के चक्कर में भ्रष्टाचार करने में जुटे हुए हैं इन सब में स्वास्थ विभाग के एएनएम को स्थानीय सपा नेता द्वारा जमकर शह भी दी जा रही है जिसकी वजह से कई प्रसुताओ की जान भी जा चुकी है।

जानकारी के अनुसार सुबेहा के तेजी पुरवा निवासी राम कैलाश कि पत्नी राजवती को बीती रात प्रसव पीड़ा हुई इसके बाद राम कैलाश ने सुबह 5 बजे के करीब स्थानीय एएनएम दयावंती से संपर्क किया। दयावंती ने प्रसुता की समस्याओं के लिए एंबुलेंस बुलाने की बजाय अपनी निजी क्लिनिक जो कि डॉ गौतम के नाम से चला रही है वही ले गई जहां पर प्रसूताओं को उनके द्वारा मोटी कमाई के चक्कर में अस्पताल के बजाय अपने निजी क्लीनिक ले जाया जाता है ।जहां से गरीबों को पैसे के लिए धन उगाही की जाती है तो वहीं इस क्लिनिक को उनके लड़के की देखरेख में चलाया जाता है। 
सुबह 5 बजे अपने निजी क्लीनिक पर प्रसूता राजवती को ले गयी जहां हालत गंभीर होने पर स्थिति नियंत्रण से बाहर होने पर अपने को बचाने के लिए बिना एंबुलेंस बुलाये सीधा सरकारी अस्पताल ले आयी।  जहां पर अपने को फंसता देख करके एएनएम दयावंती द्वारा 8:00 बजे के करीब अस्पताल में दाखिल कर कागजी कार्रवाई अपनी बचत के लिए पूरी करके मरीज के पति को शुकुल बाजार भेजने की सलाह दे डाली। इसके लिए भी हालत गंभीर होने की दशा में एएनम द्वारा एंबुलेंस की व्यवस्था नहीं की गई जबकि यह सुविधा सरकार द्वारा मुफ्त दी जाती है । 

शुकुल बाजार  निजी वाहन से ले जाते समय रास्ते में ही राजवती की मौत हो गई। छानबीन करने पर पता चला कि कई सालों से दूसरे डॉक्टर के नाम पर फर्जी तरीके से सरकारी अस्पताल के मरीजों को साठगांठ करके अपने निजी क्लीनिक पर भेजा जाता है और धन उगाही की जाती है इसके लिए मोटी रकम वसूली जाती है और तो और अधीक्षक की भी हिम्मत नहीं होती है क्योंकि इनके ऊपर स्थानीय सपा नेताओं का हाथ होने के कारण कोई भी कुछ कार्रवाई करने से डरता है।

मामला तो यहां तक है कि जिले के बड़े स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों तक है शिकायत करने पर  भी अधिकारी भी कार्रवाई करने से बचते हैं। बीते एक पखवारा पहले भी थलवारा निवासी रवी शंकर की पत्नी सुंदरा उम्र 24 वर्ष की भी इन्ही एएनएम की लापरवाही से मौत हो गई थी लेकिन कोई कार्रवाई ना होने की वजह से इनके हौसले बुलंद हैं । 

रिपोर्ट : मोहम्मद नसीम

 



Leave a Comment

Previous Comments

Loading.....

No Previous Comments found.