मुख्तार अंसारी को मिली काला पानी की सजा

तो अब तो युपी आना पड़ेगा ,युपी की रोटी खानी पड़ेगी , यु पी का पानी पीना पड़ेगा लेकिन यु पी का मतबल यु पी की जले ....जी हाँ आज हम बात कर रहे है... उस माफिया डॉन कि जो अब तक पंजाब की जेल में दामाद बना बैठा था ... और वहाँ उसकी खातिर दरी हो रही थी ...उसके बुरे दिन शुरू होने वाले है और उसका कॉमडाउन शुरू है गया है क्यों की उत्तर प्रदेश पुलिस माफिया मुख्तार अंसारी को लेने के लिए कल यानि सोमवार को पंजाब पहुंच चुकी है। बता दे  बीएसपी विधायक मुख्तार अंसारी को पंजाब की रोपड़ जेल से यूपी की जेल में शिफ्ट किया जायेगा ...जिससे उसके खिलाफ चल रहे केसों में ट्रायल पूरा किया जा सके.  बता दे ....अंसारी को लेने यूपी की पुलिस की 8 गाड़ियों का काफिला पहुंचा था... आपको बता दें कि जहां पुलिस रुकी है वो रोपड़ जेल से कुछ ही दूरी पर है, यूपी पुलिस की पुलिस करीब 100 पुलिसकर्मियों के साथ अंसारी को वापस यूपी की बांदा जेल में शिफ्ट करेगी ।

जेल के अन्दर अपना दरबार लगेने वाले और सिस्टम को अपनी ओग्लियो पर नाचने वाले  डॉन के होश उड़े हुए है ..क्यों की माफियाँ डान के साथ वही होने जारहा है जिसके खोफ से उसे कई रातो से नीद नहीं आ रही थी ...अब मुख्तारी अंसारी का ठिकाना रोपड़ जेल नहीं बाँदा जेल होगा ... 

यूपी पुलिस अंसारी को ले जाने के लिए रूट प्लान तैयार कर लिया है। पुलिस ने तीन रूटों के परीक्षण के बाद एक अभेद्य रूट प्लान तैयार किया है। इस प्लान में पंजाब पुलिस की भी एक टुकड़ी को शामिल किया गया है। इसमें यूपी पुलिस का एक वज्र वाहन और मुख्तार को ले जाने के लिए एंबुलेंस भी शामिल की गई है। रोपड़ जेल में बंद मुख्तार अंसारी की सुरक्षा को लेकर उत्तर प्रदेश और पंजाब पुलिस कोई भी चूक नहीं करना चाहती है। सुरक्षा को लेकर गंभीरता इस बात से भी पता चलती है कि यूपी पुलिस की टीम में किसी अनहोनी को देखते हुए पुलिस जवानों के साथ एक बटालियन पीएसी भी रोपड़ भेजी है। 

पुलिस टीम में शामिल सभी अधिकारी बेहद सुरक्षा और गोपनीयता बरत रहे हैं। बांदा से रवाना हुई टीम एक रास्ते के बजाय कई रास्तों का इस्तेमाल कर रही है। सभी रास्तों की समीक्षा के बाद पंजाब और उत्तर प्रदेश पुलिस के अधिकारियों ने तीन रूटों में से एक अभेद्य रूट प्लान तैयार किया है। जिसको बेहद ही गोपनीय रखा गया है। पंजाब पुलिस के सूत्रों के अनुसार अंसारी की सुरक्षा को लेकर दोनों राज्यों के पुलिस अधिकारी एक दूसरे के साथ संपर्क बनाए हैं।

बता दे , मुख्तार अंसारी को बांदा जेल की बैरक नंबर 15 में रखा जाएगा. उत्तर प्रदेश की बांदा जेल किसी काला पानी की सजा से कम नहीं. यह वो जेल है जहां बड़े-बड़े माफिया डॉन चंबल के डकैत सजा काट चुके हैं और उनके गैंग के तमाम खतरनाक अपराधी अभी जेल में बंद हैं. बांदा जेल में डकैत ददुआ, 7 लाख के इनामी बलखड़िया, गौरी यादव, संग्राम सिंह जैसे डकैतों की गैंग के कई सदस्य बंद हैं. चंबल और पाठा के जंगलों के तानाशाह रहे इन लोगों पर सैकड़ों आपराधिक मामले दर्ज हैं. 
बाहुबली डॉन और यूपी से पांच बार विधायक रह चुके मुख्तार अंसारी को लाने के लिए यूपी पुलिस रोपड़ पहुंच चुकी है और इधर बांदा की जेल माफिया डॉन का इंतजार कर रही है. मुख्तार को अब उसी जेल वापस लाया जा रहा है, जहां से उसे पंजाब ले जाया गया था. 

बांदा उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड का वह इलाका है, जहां आम लोगों के लिए भी सुविधाओं की मुश्किल है. ऐसे में बांदा जेल और जेल में बंद जरूरत से दो गुना ज्यादा कैदी, जरा सोचिए जेल का मंजर क्या होगा. मुख्तार को बांदा जेल लाने से पहले आईजी, डीएम आनंद कुमार सिंह और एसपी डॉ. एसएस मीणा ने पुलिस फोर्स के साथ जेल परिसर सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा लिया. जेल के अंदर और बाहर कई जगहों पर सुरक्षा बढ़ाने के निर्देश जारी किए गए हैं. जेल बाउंड्रीवॉल पर हर 10 से 15 फिट की दूरी पर सुरक्षा कर्मियों की तैनाती की गयी है.

बांदा की जेल यूं ही बांदा की जेल नहीं कहलाती. इस जेल में कुंडा के विधायक राजा भैया, इलाहाबाद के बाहुबली अतीक अहमद, शीलू हत्याकांड का आरोपी विधायक पुरुषोत्तम द्विवेदी, नोएडा का कुख्यात गैंगस्टर अनिल दुजाना भी इसी जेल में रह चुका है. जेल की क्षमता 600 है, जबकि इस समय जेल में 1200 से ज़्यादा कैदी बंद हैं. 

Leave a Reply



comments

Loading.....
  • No Previous Comments found.