आईये जानते हैं निकोटिन के फायदें....


निकोटिन को नशीला पदार्थ माना जाता है. इसका अधिक सेवन करना नुकसानदायक होता है. लेकिन इस बात को जानकर हैरानी  होगी कि निकोटिन के सेवन से कई बिमारियों से निजात भी मिलता है.

प्रकृति ने किसी भी तत्व बेवजह नहीं बनाया. लेकिन उसके लत में जब कोई लिप्त हो जाता है तो वही चीज उसे नुकसान पहुचांना शुरू कर देता है. साथ ही बिना समझें, उसके नेचर से छेड़छाड़ करके भी उसका उपयोग करना हानिकारक होता है. इन्हीं कारणों से कुछ पदार्थो के नाम बदनाम हो जाते है और उनपर पाबंदी भी लगा दी जाती हैं.

इन्हीं सब में एक चर्चित पदार्थ है निकोटिन. जिसे अक्सर लोग चाय या सिगरेट में उपयोग करते हैं. तो आईए जानते हैं निकोटिन के फायदें....

सिगरेट में पाया जानेवाला नशे का मुख्य तत्व निकोटीन शोध में आशाजनक इलाज के तौर पर उभर रहा है. शोधकर्ताओं का कहना है कि ये दिमाग से जुड़ी बीमारी के लिए भी मुफीद हो सकता है. अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिस्ऑर्डर मतलब ध्यान की कमी और अत्यधिक सक्रियता की बीमारी (ADHD), डिमेंशिया और सिजोफ्रेनिया के अलावा कोविड-19 तक में भी निकोटीन के प्रभाव का परीक्षण किया जा रहा है.

वहीं, पार्किसन के मामले में निकोटीन उन कोशिकाओं को सक्रिय करने में सफल साबित रहा है जो डोपामाइन हार्मोन पैदा करती हैं. निकोटीन न सिर्फ तंबाकू बल्कि अन्य पौधों में भी पाया जानेवाला एक रसायन होता है. शोधकर्ताओं का मानना है कि काली मिर्च, बैंगन में निकोटीन पाया जाता है. ये सभी डाइट के सेवन से पार्किसन बढ़ने के खतरे को 30 फीसद कम करते हैं.

पेरिस के एक बड़े अस्पताल में की गई इस स्टडी में इस बात का जिक्र था कि तंबाकू में पाया जाने वाला एक पदार्थ ( संभवतः निकोटीन) धूम्रपान करने वाले लोगों को Covid-19 के संक्रमण से बचा सकता है. हलांकि निकोटीन पैच के क्लीनिकल परीक्षण के लिए देश के स्वास्थ्य अधिकारियों की मंजूरी मिलना अभी बाकी है.

 शोधकर्ताओं ने इस बात पर जोर देते हुए कहा कि वह लोगों को धूम्रपान करने के लिए प्रोत्साहित नहीं कर रहे हैं क्योंकि यह सेहत के लिए बेहद खतरनाक है और 50 फीसदी लोगों की मौत धूम्रपान की वजह से ही होती है. शोधकर्ताओं का कहना है कि निकोटीन वायरस से लोगों को बचा सकता है, लेकिन धूम्रपान करने वालों के फेफड़ों पर तंबाकू का विषाक्त प्रभाव पड़ता है और उनमें कोरोना के गंभीर लक्षण विकसित हो सकते हैं.

 

Leave a Reply



comments

Loading.....
  • No Previous Comments found.