Shark Awareness Day 2021:आइये जाने शार्क के बारे में कुछ रोचक बातें

shark awareness day 2021:शार्क समुद्र और महासागर को स्वस्थ और उत्पादक रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. पारिस्थिति की तंत्र में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका पर रोशनी डालने के लिए हर साल 14 जुलाई को शार्क जागरुकता दिवस मनाया जाता है

.

 

शार्क खतरनाक जानवर जरूर हैं लेकिन आजकल इंसान उससे भी ज्यादा खतरनाक हो गए हैं. कई कारणों ने इन्हें कमजोर प्रजाति बना दिया है. ये खास दिन जोर देता है कि शार्क को भी सुरक्षा की जरूरत है. शार्क दुनिया भर के समुद्र में घूमती हैं. कुछ शार्क की जिंदगी औसतन 30 साल होती है और कुछ प्रजातियां 100 साल से ज्यादा जीवित रहती हैं. हाल ही में, 272 वर्षीय ग्रीनलैंड शार्क को खोजा गया था. उनकी अन्य विशेषता स्पष्ट तौर पर नुकीले-धारदार दांत होते हैं. इस अद्भु प्राणी की दूसरी विशेषता उसका विद्युत संवेदनशीलता होना है. धरती पर शार्क सबसे पुरानी प्रजातियों में से एक समझी जाती है.


जैव विविधता के लिए शार्क का संरक्षण जरूरी


अंदाजा लगाया जाता है कि एक साल की अवधि में इंसान 100 मिलियन शार्क को मार डालते हैं. पिछले 50 वर्षों में 70 फीसद से ज्यादा इंसानी गतिविधियों के कारण शार्क की संख्या में गिरावट दर्ज की गई है, जो समुद्र के जैव पारिस्थिति तंत्र के लिए विनाशकारी नुकसान है. इस नुकसान के चलते शार्क जागरुकता दिवस को मनाना महत्वपूर्ण हो जाता है क्योंकि खास दिन इन अहम मछलियों के संरक्षण के महत्व पर जोर देता है. इस दिन का मकसद डर, कलंक को दूर करना और शार्क के बारे में जागरुकता फैलाना भी है.

 


 

शार्क के बारे में कुछ रोचक तथ्य


•    शार्क की लगभग 400 प्रजातियाँ पृथ्वी पर पाई जाती हैं.
•    शार्क पृथ्वी के महासागरों में 450 मिलियन वर्ष से रहती आ रही हैं. इस तरह ये डायनासोर (Dinosaur) से भी पुरानी है.
•    शार्क और मछली (Fish) में यह भिन्नता है कि शार्क का skeletons मछलियों की तरह हड्डियों का नहीं बल्कि cartilage और muscle का बना होता है.यह हड्डियों की तुलना में बहुत कम वजनी होते हैं. यही कारण है कि शार्क काफी लचीली होती है. यह लचीलापन इसके तीव्र गति से तैरने में सहायक होता है.
•    सबसे छोटी शार्क ड्वार्फ लैंटर्न शार्क (Dwarf Lantern Shark) और पिग्मी शार्क (Pygmy Shark) है, जिनका आकार महज़ 20  सेंटीमीटर (6 इंच) होता है.
•    अधिकतर शार्क को अपने गलफड़े पर पानी पंप करने के लिए तैरते रहना होता है.

 

Leave a Reply



comments

Loading.....
  • No Previous Comments found.