खांसी-जुकाम हो जाए तो बिल्कुल न घबराएं, घर के रसोईघर से कारगर इलाज पाएं

कभी-कभी खांसी और जुकाम को हल्का लेना हमें भारी पड़ सकता है। खासकर जब वैक्सीन के बाद भी कोरोना वायरस के मामलों में इजाफा हो रहा हो। ऐसे में बदलते मौसम की बीमारियां मानकर खांसी-जुकाम को अनदेखा करना समझदारी नहीं है। इन बीमारियों के चपेट में आते ही कोशिश करनी चाहिए कि घरेलू उपायों या देसी चीजों से इलाज किया जाए। 

 

                                             

 

सुबह शाम की ठंड और दोपहर में कड़क धूप, मौसम की यह उठापटक सेहत पर भारी पड़ रही है। तेजी से ऊपर-नीचे होते तापमान में बैक्टीरिया और वायरस तेजी से फैलते हैं, जो सर्दी-जुकाम, खांसी-बुखार से लेकर बैक्टीरिया एवं वायरस इंफेक्शन (संक्रमण) की वजह बनते हैं। हालांकि इससे घबराने की जरूरत नहीं है, हर बार मौसम बदलने में ऐसा होता है। इससे बचने के उपाय आपके ही रसोईघर में उपलब्ध हैं। उन घरेलू नुस्खों को अपनाकर डॉक्टर के पास जाने से बच सकते हैं। इससे खांसी-जुकाम जैसी बीमारियों को मात देने के साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा सकते हैं।

अदरक 

अदरक में मौजूद थर्मोजेनिक इफेक्ट हमारे शरीर को कड़कड़ाती ठंड में गर्म रखता है, वहीं यह बीमारियों से बचाकर हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है।

 

 

पालक 

आपको याद होगा विदेशी कार्टून करेक्टर 'पोपाय' देसी पालक खाकर कैसे मजबूत बनता था।इसी तरह आपकी मां ने भी पालक पनीर बनाकर आपको मजबूत बनाने का नुस्खा अपनाया होगा।पालक में विटामिन सी और ए भरपूर मात्रा में होता है।जो हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मददगार है।

 

 

हल्दी 

गुणकारी हल्दी के बारे में आपने दादी-नानी से सुना होगा।हल्दी में क्यूकिन की मात्रा होती है, जो आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है।सर्दियों में अपनी डाइट में हल्दी को जरूर शामिल करें। 

 

 

नीबू 

विटामिन सी से भरपूर नीबू शरीर में एल्काइन की मात्रा बनाए रखता है, जिससे हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

 

 
 

शकरकंदी 

शकरकंदी में कार्बोहाइडेट की प्रचुर मात्रा होती है।फिर भी इस सब्जी को सबसे कम आंका जाता है। इसे फाइबर का पावर हाउस कहा जाता है।इसमें बेटा कैरोटीन भी होता है, जो शरीर को इंफेक्शन से बचाता है।

 

 

हल्दी वाला दूध


हल्दी एंटी बैक्टीरियल एवं एंटी वायरल गुणों से भरपूर होती है। इसके एंटी ऑक्सीडेंट्स तत्व बैक्टीरिया से बचाव करते हैं। हल्दी वाले दूध को पीने से सर्दी-जुकाम में तेजी से आराम मिलता है। हल्दी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है।

 

 

गिलोय


गिलोय का सेवन करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। यह संक्रामक रोगों के अलावा बुखार, सर्दी-जुकाम ठीक करने के साथ ही खून भी शुद्ध करती है। इसके डंठल के टुकड़े करके उसका काढ़ा बनाकर पीना चाहिए।

 

                                                           

Leave a Reply



comments

Loading.....
  • No Previous Comments found.